सुदृष्टि एग्री साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड के दो डायरेक्टरो पर लिखा गया मुकदमा, 3 महीने बाद भी पुलिस डायरेक्टर पर मेहरबान

सुदृष्टि एग्री साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड के दो डायरेक्टरो पर लिखा गया मुकदमा, 3 महीने बाद भी पुलिस डायरेक्टर पर मेहरबान
  • पीड़ित परिवार को अलग-अलग माध्यमों से कर रहा है परेशान

लखनऊ : घर में घुसकर मारने गाली गलौज बलवा करने वाले आरोपित सूदृष्टि एग्री साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड का डायरेक्टर खुलेआम घूम रहे हैं और पीड़ित परिवार को सोशल मीडिया के माध्यम से अनर्गल बातें लिख लिख कर परेशान भी कर रहे हैं. पीड़ित परिवार में भाई बहन के मोबाइल पर उनके सोशल मीडिया अकाउंटो पर जाकर पंकज उपाध्याय नाम का डायरेक्टर मानसिक तनाव और दबाव बनाकर यह जताना और दिखाना चाह रहा हैं कि तुम्हारे मुकदमे से मेरा कुछ होने वाला नहीं है कई सूत्र और जानकारों ने नाम ना बताने के  शर्त पर यह भी कहा कि ऐसी पुलिस इनके जेबों में होती है चुकी इन लोगों के तार कई माफियाओं के साथ जुड़े पड़े हैं.

दरअसल मामला है 29 मई 2019 की रात दोनों डायरेक्टर अपने परिवार और अज्ञात  कई अन्य लोगों के साथ अपने रिश्तेदार के घर में घुसकर हमला कर दिया था. वहां कंपनी का डायरेक्टर पंकज उपाध्याय और दूसरा डायरेक्टर प्रेम शंकर उपाध्याय सुधाकर उपाध्याय कानपुर का रिश्तेदार सोनू शुक्ला के साथ कई अन्य लोग पहुंच गए जिसमें पहले तो अपनी बहू को मारा पीटा इसके बाद भद्दी गालियों के साथ भाई को ललकारने लगा जिसके बीच बचाव में भाई जब सामने आया तो इन लोगों ने मारा-पीटा और मौका पाकर जैसे ही पीड़ित परिवार ने 100 नंबर डायल किया तो पुलिस गाड़ी के हुक्टर की आवाज सुनकर यह लोग रफूचक्कर हो गए. मौके पर पहुंची पुलिस की पीआरबी 0515 ने मामले का संज्ञान लिया और चोटिल को अस्पताल पहुंचाया तत्काल ही चिनहट थाने और मटियारी चौकी को इस बात की जानकारी दे दी गई थी क्योंकि मामला पुलिस के कई बार की जानकारी में थी जिस वजह से मुकदमा अपराध संख्या 494/19 में कई संगीन धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया. डायरेक्टरों का उत्पात पिछले कई वर्षों से चल रहा था इस वजह से चिनहट थाना में मामले का संज्ञान लेते हुए एफआइआर दर्ज की गई लेकिन 3 माह बीत जाने के बाद भी दोनों डायरेक्टर उसका परिवार और अन्य लोग खुलेआम घूम रहे हैं और यही नहीं बल्कि अपने कई अन्य लोगों को भेजकर, सोशल मीडिया व्हाट्सएप ट्यूटर अन्य माध्यमों से मैसेज कर पीड़ित परिवार को दबाव बना रहे हैं.

आखिर कौन है यह डायरेक्टर

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार दोनों डायरेक्टर सगे भाई हैं देवा रोड स्थित दुर्गा मंदिर पर आज से लगभग 15 वर्ष पहले बाराबंकी जूटमील से निकाल दिए जाने के बाद पिता आकर देवा रोड स्थित दुर्गा मंदिर में पंडिताई शुरू कर दिए थे. लोगों को तंत्र मंत्र जादू टोने की बात बता कर सुधाकर उपाध्याय ने बहुत कमाया और आज शिवनगर मकान नंबर 14 देवा रोड चिनहट जिसमें अवैध कुछ जमीन कब्जा की बात भी निकल कर आ रही वहां मकान बनाकर रह रहा है  जिन पर अपने रिश्तेदारों से शादी के  बाद से ही दहेज मांगने और अपनी बहू को शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने के साथ घर में बहू के साथ मारपीट गाली गलौज और धक्के मार के निकाल देने का आरोप पीड़ित परिवार ने लगा रखा है

क्या कहता है पीड़ित परिवार

पीड़ित परिवार का आरोप है कि शादी के बाद से ही हमारी बेटी को तंग और परेशान किया जा रहा था यही नहीं बल्कि भ्रूण हत्या, आग से जलाने, दहेज के लिए डेढ़ साल  मायके जबरजस्ती भेजना, गलब्लैडर के ऑपरेशन के बाद घर में ससुर और पति के द्वारा टांका कटने का इंतजार तक नहीं किया और मारा-पीटा हमारी बेटी खुद ही ऑपरेशन कराने के बाद विवेकानंद अस्पताल जाकर अपना टाका कटवा कर आई थी. 13 अप्रैल 2018 को ससुराल के लोगों ने मेरी बेटी को बुरे हाल में मारपीट कर दो बच्चों के साथ निकाल दिया था जहां मेरी बेटी सुसाइड करने की कोशिश करने जा रही थी तभी मेरे बेटों को मालूम चला तो वे हमारी बेटी को घर ले आए इसके बाद भी यह लोग माने नहीं और जबर्दस्ती रोड रास्ते गली मोहल्ले और घर में आकर जबरदस्ती दबाव बनाते थे यहां तक कि जहां मेरी बेटी पढ़ने जाती थी वहां भी रात या दिन जबरदस्ती पंकज उपाध्याय पहुंच जाया करता, अनाप-शनाप बोलने के साथ हाथ उठा दिया करता था और एक दिन तो हद ही पार हो गई जब 29 मई 2019 की रात लगभग 8:30 से 9:00 बजे घर में कई अन्य लोगों के साथ घुसकर मारपीट ही शुरू कर दिया.

क्या कहता है सुदृष्टि का डायरेक्टर और कोहिनूर एग्रो इंडस्ट्रीज का प्रोपराइटर पंकज उपाध्याय

डायरेक्टर आपत्ति जताते हुए मीडिया हाउस को खबर का खंडन चलाने के लिए दबाव बना रहा है और लिखित में कार्रवाई करने की बात कह रहा है. पंकज उपाध्याय का कहना है कि मीडिया हाउस  में उनका रिश्तेदार  जो उनको शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ित कर रहा है और खबर के माध्यम से परेशान करने की कोशिश भी कर रहा है चुकी मीडिया हाउस से उनके रिश्तेदार का संबंध है और रिश्तेदार उन पर गलत आरोप भी लगा रहा है.

मीडिया हाउस ने दिया जवाब

मीडिया हाउस ने पंकज उपाध्याय की आपत्ति पर कहा की आप हमारे संस्था से जुड़े प्रशांत तिवारी के घर 29 मई 2019 कि रात को अपने दल बल के साथ घर में घुसकर मारपीट किए जिसकी सूचना यूपी 100 को मिली जिस पर यूपी 32 डीजी0 515 पुलिस वाहन पहुंची और तत्काल कार्रवाई की और आप परिवार समेत पर एफ आई आर नंबर 494/2019 के तहत 30 मई 2019 को चिनहट लखनऊ में कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है जो यह पुष्टि करता है कि हमारे द्वारा प्रकाशित खबर सत्य और पूर्णता मानक के अनुरूप है. खबर का प्रकाशन कोई किसी के रिश्तेदार होने से नहीं चलवा सकता जब तक की तथ्यात्मक पुष्टि थाने या संबंधित अधिकारी से ना हो जाए

 

Comments