मात्र दो माह के अंदर छुट्टा जानवरों से जनपद के लोगों से छुटकारा-निषाद

मात्र दो माह के अंदर छुट्टा जानवरों से जनपद के लोगों से छुटकारा-निषाद

रिपोर्ट-अंकुर यज्ञसेनी

बाराबंकी


राजकीय पशुधन प्रक्षेत्र, चक गंजरिया, स्थित निबलेट बाराबंकी का निरीक्षण जय प्रकाश निषाद राज्यमंत्री पशुधन, मत्स्य एवं दुग्ध विकास विभाग ने किया। श्री निषाद ने निरीक्षण के दौरान साहीवाल गाय,

कालविंग शेड, फाडर/कैटिल फीड स्टोरेज शेड, ईटीटी लैब, कैटिलफीड प्लान्ट शेड, पशु चिकित्सालय, राजकीय कुक्कुट हैचरी का निरीक्षण किया। राज्यमंत्री श्री निषाद ने साहीवाल गायों को गुड़ खिलाते हुए कहा कि जनपद में घूम रहे छुट्टा जानवरों का लक्ष्य निर्धारित करके जनपद को दो माह में छुट्टा जानवरों से निजात दिलाया जाये।

छुट्टा जानवरों से जनपद को निजात दिलाने के लिए नगर पालिका सहित अन्य विभागों की मदद लेते हुए समयान्तर्गत कार्य पूरा कर लिया जाये। गौशालों में पशुओं के लिए समुचित व्यवस्थाओं को पूरा रखा जाये। जमीनों पर मनरेगा द्वारा कार्य कराकर गौशालों का निर्माण कर निराश्रित पशुओं को रखा गया है।

छुट्टा जानवरों की भली-भांति देख-रेख हेतु गौ आश्रय स्थलों पर समुचित व्यवस्था में छायादार वृक्ष, चारा, पानी आदि की व्यवस्थाओं को भी पूरा किया जाये, जिससे किसी निराश्रित पशु को समस्या न हो। उन्होंने कहा कि जो भी पशुपालक अपने पशुओं को छुट्टा छोड़ देते है उनको चिन्हित कर उनके विरूद्ध कठोर दण्डात्मक कार्यवाही भी की जाये।

आवारा पशुओं पर मंत्री ने कहा कि बहुत शीघ्र ही छुट्टा गोवंश से मुक्त करने की योजना चला रहे है, जिसमें जनपद बाराबंकी को दो माह में छुट्टा जानवरों से निजात दिलाया जायेगा। छुट्टा जानवरों से जनपद को मुक्त कराने का लक्ष्य भी निर्धारित कर कार्य को पूरा किया जाये। कृषि विभाग के अन्तर्गत पशुपालन,

मत्स्य पालन, कुक्कुट पालन इत्यादि योजनाओं द्वारा किसानों की आय को बढ़ाने में काफी सहायक है।
निरीक्षण के दौरान बताया गया कि इस प्रक्षेत्र पर वर्तमान में डेरी अनुभाग के कुल लगभग 913 साहीवाल प्रजाति के पशु पाले जा रहे है, जिनके संरक्षण एवं सम्वर्द्धन का कार्य किया जा रहा है।

प्रक्षेत्र से साहीवाल प्रजाति के उच्चगुणवत्ता के नर बछड़े प्रदेश के विभिन्न जनपदों में प्राकृतिक गर्भाधान हेतु भेजे जाते है। अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लाभार्थियों को बैकयार्ड योजना के अन्तर्गत स्वरोजगार हेतु चूजों को वितरित किया गया था, वह सर्वाइव कर रहे है या नहीं। माह अगस्त, 2019 में उत्पादित चूजों को स्थानीय कुक्कुट पालकों को स्वरोजगार हेतु एवं बैकयार्ड योजना जनपद रायबरेली, उन्नाव, हरदोई, अमेठी को उपलब्ध कराया गया है।


इस दौरान डा.प्रकाश चन्द्र सिंह उपनिदेशक परिक्षेत्र, एमपी सिंह अधीक्षक चकगंजरिया निबलेट, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी आर.सी.जायसवाल, डा.संतोष यादव प्रभारी ईटीटी लैब, डा.मेहर सिंह पशु चिकित्सा अधिकारी, अशोह वर्मा कुक्कुट प्रक्षेत्र प्रभारी, डा.विजय विक्रम सिंह उपमुख्य पशु चिकित्साधिकारी सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

Comments