मौदहा कस्बे में जाम के झाम से नहीं मिल पा रहीं निजात 

  मौदहा कस्बे में जाम के झाम से नहीं मिल पा रहीं निजात 

मौदहा नगर में लोगों को जाम के झाम से निजात मिलती नजर नहीं आ रही है। जहां बडे चैराहे से लेकर नगर के मुख्य मार्ग में अतिक्रमण का बोल बाला होने के चलते प्रतिदिन लोगों को जाम से रूबरू होना पड़ता है। जिसके कारण इस भीषण गर्मी में स्कूली बच्चों को भी जाम का दंश झेलना पड़ रहा है। वहीं प्रशासन सब जानते बूझते हुये भी इस समस्या को लेकर कोई ठोस कार्यवाही करने की बजाये चैन की नींद सो रहा है।

बताते चलें कि नगर मौदहा में बडे चैराहा, मलिकुआं चैराहा, थाना चैराहा, पानी की टंकी, नेशनल चैराहा से लेकर देवी चैराहा स्टेशन मार्ग व मलिकुआं चैराहा से कपसा मार्ग पर इलाहाबाद बैंक तक लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है। अतिक्रमण इतना ज्यादा है कि लोगों ने अपनी पूरी दुकानों तक सड़कों पर लगा रखी है। इस अतिक्रमण के कारण उत्पन्न होने वाली समस्या से लोगों को प्रतिदिन रूबरू होना पड़ रहा है। जिसके चलते नगर के बडे चैराहे सहित अन्य मुख्य मार्गोंं में भयानक जाम लग जाता है नगर के बडे चैराहे में प्रतिदिन सैकड़ों आॅटो गाड़ी, टेक्टर तथा हजारों की तादात में ट्रकों का आवागमन होता है इस अतिक्रमण के कारण प्रतिदिन घण्टों जाम लगा रहता है। जिसके कारण लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है और तो और स्कूल की गाड़ियों, एम्बुलेन्स आदि भी जाम में घण्टों फंसी रहती है।

इस भीषण गर्मी में स्कूली बच्चे जाम में फंस कर बिलबिलाते रहते हैं। इसी तरह यहां के मलिकुआं चैराहा, पानी की टंकी, थाना चैराहा, नेशनल चैराहा, कपसा मार्ग, स्टेशन मार्ग में भी अतिक्रमण के कारण घण्टो जाम लगा रहता है। इस जाम में लोगों का पैदल निकलना भी दूभर रहता है। इस समस्या के बारे में कई बार यहां के समाजसेवियों व बुद्धजीवी लोगों ने कई बार तहसील दिवसों, उपजिलाधिकारी सहित उच्चाधिकारियों को अवगत कराया तथा शिकायती पत्र भी दिया है। परन्तु समस्या जस की तस बनी हुयी है। कई बार नगर पालिका द्वारा यहां के दुकानदारों को नोटिसें भी दी गयी, परन्तु भेदभाव पूर्ण रवैये के चलते अतिक्रमण हटाओं अभियान टांय टांय फिस्स हो गया है।

वहीं शासन प्रशासन के ढुलमुल रवैये को देेखते हुये अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलन्द है। उन्हे पता है कि जब भी अतिक्रमण लगाया जायेगा तो वह एक हफ्ते का समय मांग लेगें और एक हफ्ते बाद प्रशासन का यह अभियान ठण्डे बस्ते में चला जायेगा। इन सभी समस्याओं को देखते हुये यहां की जनता को काफी परेशानी का सामना करना पड रहा है। परन्तु शिकायतों के बाद भी प्रशासन के कानों में जूं तक नहीं रेंगती हैं। बताते चलेें कि अभी कुछ दिनों पहले जाम में फंसी एम्बुलेन्स में ही एक महिला ने बच्चे को जन्म दे दिया था। अतिक्रमणकारियों के हौसले इतने बुलन्द है कि उन्होने कोतवाली मौदहा की चाहरदीवार, पार्कों तथा नालों तक में कब्जा कर रखा है।


 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments