हाईटेंशन लाइन की चिंगारी से रोड़ के किनारे लगी आग

हाईटेंशन लाइन की चिंगारी से रोड़ के किनारे लगी आग
  • गेंहूँ की पकी फसल ऊपर झूल रहे  हाईटेंशन लाइन के तार।
  • हाईटेंशन लाइन की एक चिंगारी से लगभग पच्चीस से तीस एकड़ तक जल सकती है गेंहूँ की फसल।
  • हाईटेंशन लाइन के तार अधिक नीचे होने के कारण फसल कटाई,मड़ाई के समय हो सकता है बड़ा हादसा 

फफूँद / औरैया।       

नगर के करीब फफूँद तर्रई मार्ग पर गाँव फक्कड़पुर के सामने रोड़ पर हाईटेंशन लाइन के ज्वाइंट ढीले है,रोड़ से पश्चिम की और गेंहूँ की पकी खड़ी फसल के ऊपर तार अधिक नीचे तक झूल रहे है,ढ़ीले ज्वाइन्ट से निकली चिंगारी से सड़क किनारे आग लग चुकी है,झूलते तारों से फसल में भी आग लग सकती है,किसानों को भारी नुकसान की चिन्ता सता रही है,विध्धुत विभाग जान कर भी अन्जान बना हुआ है।

 केशमपुर फीडर के अंतर्गत आने वाली फफूँद तर्रई मार्ग पर गाँव फक्कड़पुर के सामने हाईटेंशन लाइन के ज्वाइंट ढीले होने की वजह से बुधवार शाम को निकली चिंगारी से विध्धुत पोल के नीचे आग लग गयी,दूसरी बार जब चिंगारी निकली तो हवा तेज होने के कारण रोड़ के दुसरे किनारे पर आग लग गयी आग के बढ़ने पर ग्रामीणों ने देखा तो अफरा तफरी मच गयी आनन फानन में ग्रामीणों ने आग बुझाई यदि ग्रामीण से चूक हो जाती तो सड़क किनारे खेतों में पकी खड़ी गेंहूँ की फसल भी आग की चपेट में आ सकती थी,जिससे किसानों को भारी आर्थिक नुकसान हो सकता था किसान दाने दाने को तबाह हो सकते थे,किसानों का कहना है कि विध्धुत विभाग को सूचना के बाद भी समस्या का समाधान नही हुआ।

विध्धुत पोल के पश्चिम की तरफ लगभग पचास कदमो की दूरी पर हाईटेंशन लाइन के तार खेतों में गेंहूँ की पकी तैयार खड़ी फसल से लगभग आठ फिट ऊपर लटक रहे है,इतने अधिक नीचे तार होने से हर समय फसल के ऊपर खतरा मंडरा रहा है,तारों से निकली एक चिंगारी से लगभग पच्चीस से तीस एकड़ फसल जल कर नष्ट हो सकती है इससे किसान तबाह हो सकते है छोटे किसान भुखमरी के कगार पर पहुंच सकते है,इन हाईटेंशन के झूलते तारों से बड़ा हादसा भी हो सकता है

फसल कटाई और मड़ाई के समय मजदूर कटी फसल के गठ्ठर सिर पर रख कर थ्रेशर पर मड़ाई के लिए ले जाते है,यदि जरा सी भी चूक हो जाने से लटकते तार सिर पर रखे गठ्ठर से छू जाएंगे जिससे जन हानि भी हो सकती है जहाँ तार झूल रहे है तथा जहाँ रोड़ के किनारे चिंगारी से आग लग चुकी है इस क्षेत्र के किसानों को फसल के जल जाने की चिंता सता रही है,सूचना के बाद भी विभाग ध्यान नही दे रहा है,पीड़ित किसान भगत,सिपाही लाल,रामाधार,अलीहसन,एह बरन सिंह,फुन्दन शाह,साहब सिंह,मुकुट सिंह,आदि ने जिलाधिकारी से समस्या का समाधान कराने के लिए गुहार लगाई है,ताकि किसान तबाह और बर्बाद होने से बच सके।जे ई ओमबीर सिंह ने फोन पर बताया कि अभी कोई शिकायत नही मिली है तारो को सही कराया जाएगा अभी बजट नही है

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments