काम का दबावः थाना गोविंद नगर में स्वीकृतपद 400, तैनाती 54 की

काम का दबावः थाना गोविंद नगर में स्वीकृतपद 400, तैनाती 54 की


-नोडल अधिकारी ने किया जिला चिकित्सालय, थाना गोविंद नगर का किया निरीक्षण


-वीवीआईपी ड्यूटी का रहता है अतिरिक्त दबाव


-श्रीकृष्ण जन्मस्थान भी इसी थाना क्षेत्र के अंतर्गत आता है

मथुरा 

पुलिस पर पर काम का दबाव किस कदर है, इस का अनुमान इससे ही लगाया जा सकता है कि थाना गोविंदनगर में स्वीकृत पद 4 सौ हैं जिसके सापेक्ष कुल 54 लोगों की तैनाती है। यह तथ्य उस समय उजागर हुआ जब प्रमुख सचिव सहकारिता विभाग एवं जनपद नोडल अधिकारी एमवीएस रामी रेड्डी ने विभिन्न क्षेत्रों का औचक निरीक्षण किया। इसी दौरान वह थाना गोविंद नगर का औचक निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने थाने में स्वीकृत पदों की जानकारी ली तो यह चैंकाने वाला तथ्य सामने आया।

थाना गोविंद नगर क्षेत्र में ही श्रीकृष्ण जन्मस्थान आता है। वीवीआईपी ड्यूटी का अतिरिक्त दबाव भी इस थाने पर रहता है। गोविन्द नगर थाना का निरीक्षण के दौरान प्रभारी अधिकारी ने पुलिस अधीक्षक क्राइम राधेश्याम राय एवं सीओ सिटी राकेश से पुलिस स्टाफ स्वीकृत पद की जानकारी ली, जिसमें एसपी क्राइम व एसपी सिटी ने बताया कि इस थाने में स्वीकृत पद चार सौ हैं। जिसके सापेक्ष 54 लोगों का स्टाफ है तथा अन्य कुछ स्टाफ श्रीकृष्ण जन्मभूमि में ग्रीन जोन में लगे हुए हैं।


श्री रेड्डी ने तहसील सदर का निरीक्षण भी किया। उन्होंने उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदार के कोर्ट में लम्बित वादों की जानकारी लेते हुए निर्देश दिये कि एक सप्ताह के अन्दर कोर्ट में लम्बित वादों का निस्तारण कराना सुनिश्चित करें। निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी रामनेवास, एसपी क्राइम राधे श्याम राय, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. शेर सिंह, एसएलओ सुरेन्द्र प्रसाद यादव, जिला विकास अधिकारी रवि किशोर त्रिवेदी, जिला सहकारिता अधिकारी राघवेन्द्र सिंह सहित अन्य संबंधित अधिकारीगण उपस्थित थे।

जिला चिकित्सालय का भी किया निरीक्षण, यहां भी रिक्त हैं महत्वपूर्ण पद


नोडल अधिकारी ने शुक्रवार को सर्वप्रथम उन्होंने जिला अस्पताल जाकर होम्योपैथिक औषधि अनुभाग को देखा तथा उसकी जानकारी ली। प्रमुख सचिव को टेक्नीशियन एवं वार्डबाय दवा बनाते हुए मिले। उन्होंने उपस्थित डाॅक्टर अनीता को निर्देश दिये कि वह दवायें अपनी निगरानी में बनवायें।

जिसके बाद उन्होंने दवाइयों की उपलब्धता की जानकारी ली और स्वयं दवाइयों की एक्सपायरी डेट देखी।
प्रमुख सचिव ने महिला बार्ड, आॅपरेशन थ्रियेटर, ईमरजेंसी, डायलेस बार्डों का निरीक्षण करते हुए संबंधित डाॅक्टरों को साफ सफाई एवं वार्डों को मेनटेन करने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान उन्होंने डाॅक्टर एवं समस्त स्टाफ की जानकारी लेते हुए उनकी उपस्थिति चेक की, जिसमें 16 उपस्थित एवं 6 छुट्टी पर पाये गये साथ ही बजट से संबंधित मदों की जानकारी ली। यहां भी टैक्नीशियन, फिजीशियन सहित कई पद लम्बे समय से रिक्ता चल रहे हैं।
 

 

Comments