इन टाइट इनरवियर से महिलाओ के स्वस्थ को होते है ये घातक नतीजे...

इन टाइट इनरवियर से महिलाओ के स्वस्थ को होते है ये घातक नतीजे...

गलत पैंटी के चुनाव से भी बहुत सी स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां घेर लेती हैं. तंग और अनफिटब्रा स्तनों की त्वचा पर प्रैशर डालती है,

जिस से हारमोन में मैलाटोनिन बढ़ जाता है और ब्रैस्ट कैंसर होने का खतरा मंडराने लगता है.फिर भी महिलाएं इनरवियर को हमेशा फैशन से जोड़ कर देखती हैं न कि स्वास्थ्य से. सही फिटिंग और फैब्रिक के इनरवियर का महिलाओं की हैल्थ से गहरा संबंध है.

ज्यादातर महिलाएं सोचती हैं कि कपड़े से बने इनरवियर का शरीर पर भला क्या गलत प्रभाव पड़ता होगा. लेकिन ये ऐसे प्रभाव होते हैं, जो समय रहते भले न दिखते हों, मगर लौंग टर्म में इन के परिणाम जरूर अपना रंग दिखाते हैं.

ज्यादातर महिलाएं ब्रा और पैंटी को टाइट फिट बनाने के लिए उस में सिलाई या सेफ्टीपिन का इस्तेमाल करती हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि पहनतेपहनते इनरवियर लूज पड़ जाते हैं. इन्हें फिटिंग का बनाने के चक्कर में महिलाएं इस तरह के जुगाड़ करती हैं. 

लेकिन वैज्ञानिक तौर पर इस से इनरवियर की फिटिंग सही नहीं, बल्कि खराब हो जाती है. अधिकतर महिलाएं जो गलत माप की ब्रा पहनती हैं उन की पीठ आगे की ओर झुकी होती है.

ऐसा होने की मुख्य वजह होती है पीठ के ऊपरी भाग का लचीलापन कम हो जाना. कई बार टाइट ब्रा पहनते रहने से पीठ के ऊपरी भाग में कसाव के कारण फैट भी जमा हो जाता है और त्वचा में टायर बनने लगते हैं. 

साथ ही ब्रा बैंड के अत्यधिक टाइट होने पर सांस संबंधी दिक्कतें भी पैदा हो जाती हैं. इन के अतिरिक्त ज्यादा टाइट पैंटी भी कई तरह की समस्याएं पैदा करती है.

ज्यादातर महिलाओं की कमर के हिस्से पर फैट जमा होता है या हिप्स का निचला भाग उभरा हुआ होता है. इस की वजह भी टाइट पैंटी होती है.

Comments