विदिशा की प्रशिद्ध श्री रामलीला का तिथिवार कार्यक्रम घोषित

विदिशा की प्रशिद्ध श्री रामलीला का तिथिवार कार्यक्रम घोषित

विदिशा से शोभित जैन की रिपोर्ट

प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी मकर सक्रांति के पावन पर्व पर श्री रामलीला तथा मेला का भव्य आयोजन कार्यक्रम अनुसार किया जायेगा। श्री रामलीला मेला समिति के मानसेवी सचिव डॉ सुधांशु मिश्र ने तिथिवार आयोजित होने वाले रामलीला के प्रसंगों के संबंध में बताया है कि 13 जनवरी रविवार की प्रातः दस बजे से भूमिपूजन संबंधी कार्यक्रम आयोजित किया गया है। 14 जनवरी सोमवार को शंकरजी की बारात दोपहर तीन बजे से माधवगंज शिवालय से प्रस्थान कर सायं सात बजे श्री रामलीला प्रागंण में शिव विवाह, 15 जनवरी मंगलवार की प्रातः 11 बजे गंगा दर्शन, नारद मोह, स्वायम्भुव मनु का तप व वरदान, 16 जनवरी बुधवार को प्रतापभानु से रावण जन्म तक, 17 जनवरी गुरूवार को इन्द्र मेघनाद युद्व, 18 जनवरी शुक्रवार को श्री राम जन्म से बाल लीला, 19 जनवरी शनिवार को सीता जन्म, ताड़का व सुवाहु वध, 20 जनवरी रविवार को सीता स्वंयवर, परशुराम संवाद, 21 जनवरी सोमवार को श्री रामचन्द्र जी की दिव्य बारात झांकियों के साथ माधवगंज शिवालय से सायं चार बजे प्रारंभ होगी, 22 जनवरी मंगलवार को श्री राम विवाह, 23 जनवरी बुधवार को विवाह उत्सव, ब्राहम्ण भोज, 24 जनवरी को अयोध्या में दशरथ सभा, 25 जनवरी शुक्रवार को श्री रामचन्द्र जी को वनवास, गंगा तरण, 26 जनवरी शनिवार को चित्रकूट पर श्रीराम-भरत मिलाप, 27 जनवरी रविवार को खरदूषण वध, 28 जनवरी को सीता हरण, रावण-जटायु युद्व, 29 जनवरी मंगलवार को बाली वध एवं सुग्रीव राज्याभिषेक, 30 जनवरी लंका दहन (अग्नि क्रीडा), 31 जनवरी गुरूवार को सेतु बंध, श्री रामेश्वर स्थापना व अंगद रावण संवाद, एक फरवरी शुक्रवार को सेनायुद्व व लक्ष्मण शक्ति, दो फरवरी को अतिकाय एवं कुंभकरण वध, तीन फरवरी को मेघनाथ वध व सुलोचना सती, चार फरवरी को अहिरावण वध, पांच फरवरी को नारांतक वध, छह फरवरी बुधवार को सेनायुद्व, मायादर्शन, श्री राम-रावण युद्व प्रदर्शन, रावण वध (अग्नि क्रीडा आतिशबाजी), सात फरवरी गुरूवार को विभीषण को राजतिलक, श्री राम-भरत मिलाप, आठ फरवरी को श्री  राम राज्याभिषेक और नौ फरवरी शनिवार को श्री राम जी की शोभा यात्रा का नगर आगमन एवं श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर नंदवाना में विश्राम, श्री रामलीला प्रति दिन सायं चार बजे से प्रारंभ होगी जबकि रावण वध के दिन दोपहर तीन बजे से कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां प्रस्तुत होगी।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments