चुनावी रणनीति के साथ संगठन में सोशल इंजीनियरिंग को बढ़ावा देगी बीसीएस ​​​​​​​

बीसीएस के चिंतन शिविर में होगा मंथन - प्रदेश अध्यक्ष राजेश प्रसाद
 
चुनावी रणनीति के साथ संगठन में सोशल इंजीनियरिंग को बढ़ावा देगी बीसीएस

स्वतंत्र प्रभात-

राँची/झारखंड- 

लोकसभा और विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज करने के लिए बीसीएस जल्द झारखंड में  चिंतन शिविर में जीत का फार्मूला तलाश करेगी। झारखंड की राजधानी रांची  में होने वाले इस चिंतन शिविर के एजेंडे को अंतिम रुप देने के लिए बीसीएस के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष राजेश प्रसाद के नेतृत्व में जल्द बैठक होगी । बीसीएस के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष राजेश प्रसाद की अध्यक्षता  होने वाली इस बैठक में चिंतन शिविर में पेश किए जाने वाले प्रस्तावों को मंजूरी दी जाएगी।

चिंतन शिविर में बीसीएस के भविष्य की चुनावी रणनीति के साथ संगठन को मजबूत बनाने पर भी चर्चा करेगी। इसके लिए संगठन कई अहम बदलावों की तैयारी कर रही है। प्रदेश अध्यक्ष राजेश प्रसाद के मुताबिक, बीसीएस चुनाव में सोशल इंजीनियरिंग पर खास ध्यान देगी। इसकी शुरुआत संगठन में हिस्सेदारी से करेगी। संगठन में ओबीसी, एससी/एसटी और अल्पसंख्यकों की हिस्सेदारी बढ़ा सकती है। ओबीसी,

एससी/एसटी और अल्पसंख्यकों को संगठन में यह हिस्सेदारी ब्लॉक लेवल समिति से लेकर प्रदेश कार्यसमिति तक लागू की जा सकती है। इसके साथ संगठन में ज्यादा अधिकार देने पर भी विचार कर रही हैं। संगठन के एक नेता के मुताबिक, चिंतन शिविर में प्रदेश अध्यक्ष को समिति के सदस्यों के साथ चर्चा के बाद जिला अध्यक्षों की नियुक्ति का अधिकार होगा।

FROM AROUND THE WEB