आजादी के 75 वर्ष बाद भी गांव में नहीं बन सका है नाली

चुनाव के दौरान ग्राम प्रधानों द्वारा बड़े बड़े वायदे किए जाते है लेकिन पूरा नहीं
 
आजादी के 75 वर्ष बाद भी गांव में नहीं बन सका है नाली

स्वतंत्र प्रभात-

मिर्जापुर, विंध्याचल। थाना विंध्याचल क्षेत्र अंतर्गत अटल चौक के पास ग्राम छुटकी मऊहरिया पावर हाउस रोड , पिछले कई सालों से ग्राम छोटकी मौउहरिया , सिस्टम की लापरवाही झेलने को मजबूर लगभग पांच हजार की आबादी न, नाली, न सीवर, टूटी फूटी सड़कें, हर नुकड़ पर जमा हुई गंदी नाली का पानी, न सफाई व्यवस्था , छेत्र में कभी जल्दी नहीं पहुंच पाते सफाई कर्मी, जल जमाव , बदबू आ रही जमे हुए कूड़े ,बच बचा कर विद्यालय जानें को मजबूर , स्कूल के बच्चे ,नहीं पहुंच पाती स्कूल की , बैन , बच्चों को लेने उनके घर तक , बद से बदतर हालात इस ग्राम क्षेत्र का नहीं रहा फिक्र, ग्राम प्रधान या जनप्रतिनिधियो को पिछले लगभग, 30 सालों से नहीं आए इस क्षेत्र में विधायक या मंत्री नहीं रहा गांव वालों का शुध जनप्रतिनिधियों को नहीं हुआ आज तक इस क्षेत्र में कोई भी विकास कार्य ,  यह ग्राम विकास कार्यों में हर क्षेत्र से पीछे हैं,

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का ड्रीम प्रोजेक्ट वाला क्षेत्र मां विंध्यवासिनी मंदिर से महज 500 मीटर पहले , मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के आदेश की उड़ाई जा रही खुलकर धज्जियां आदेश के बावजूद भी हर क्षेत्र में जलजमाव कीचड़ बदबू दे रहे जमे हुए कूड़े बहते हुए गंदी नाली का पानी सत्ताधारी सरकार मैं विधायक और मंत्री जनपद मिर्जापुर में लगभग 5 विधानसभा वाला क्षेत्र फिर भी स्कूल वैन भी बच्चों के घर तक नहीं पहुंच पाती इस क्षेत्र में लगभग 5000 की आबादी है नाली या अंडर ग्राउंड इन सिवर ना होने के कारण लोगों के घर का पानी रोड पर हमेशा पता रहता है जिसके कारण जल जमाव की स्थिति बनी रहती है कूड़ा करकट उसी पानी में सड़ कर बदबू देता रहता है जो अन्य बीमारियों को दावत देता है आज तक इस क्षेत्र में कभी भी विधायक या मंत्री नहीं आए आलम यह रहा है कि बरसात के दिनों में इस क्षेत्र की बद से बदतर हालात बना रहता है यहां की युवा वर्ग और जनता सरकार के उस सिस्टम से पूछता है क्या यही है सबका साथ सबका विश्वास सबका विकास ना जानें कितनी सरकारे और गई , कब मिलेगा निजात गांव वालों को। पूछता है सिस्टम से गांव की आबादी युवा वर्ग।

   

FROM AROUND THE WEB