तेजी से बढ़ रहा गंगा का पानी 35 सेंटीमीटर जलस्तर में दर्ज की गई बढ़ोतरी

 गंगा का जलस्तर एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगा है। बीते दो दिनों से ही जलस्तर में एक से डेढ़ सेंटीमीटर पानी में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज की गई
 
 गंगा का जलस्तर एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगा है। बीते दो दिनों से ही जलस्तर में एक से डेढ़ सेंटीमीटर पानी में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज की गई

स्वतंत्र प्रभात

उन्नाव   गंगा का जलस्तर एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगा है। बीते दो दिनों से ही जलस्तर में एक से डेढ़ सेंटीमीटर पानी में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। जिससे घाट के किनारे रखी पंडों की झोपड़ियां डूब गई। वहीं जलस्तर बढ़ने के कारण गंगा की खुली रेती डूबने लगी हैं। इसके साथ ही शुक्लागंज की ओर तेजी से पानी फैलने लगा है। पहाड़ी और मैदानी क्षेत्रों में बारिश होने के कारण पश्चिम के घाटों से बराबर कई हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इसके साथ ही बैराज बांध के भी सभी गेट खोल दिये गये हैं। जिससे शुक्लागंज के घाटों तक पानी पहुंचने लगा है। वहीं शाम से लेकर सुबह के बीच प्रति घंटे एक से दो सेंटीमीटर गंगा के जलस्तर में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। जलस्तर बढ़ने के कारण भोर पहर पंडा घाटों पर पहुंचे। जहां आनन फानन में पंडों ने अपनी झोपड़ियां खोली और पानी से दूर लगाई। वहीं, केन्द्रीय जल आयोग ने बताया कि बीते गुरुवार शाम 6 बजे गंगा का जलस्तर 110.500 मीटर था। जो शुक्रवार शाम छह बजे 110.850 मीटर तक पहुंच गया। चौबीस घंटे के भीतर गंगा के जलस्तर में 35 सेंटीमीटर बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। बीती रात से लगातार जलस्तर बढ़ रहा है जिससे अब निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को बाढ़ का खतरा सताने लगा है।

   

FROM AROUND THE WEB