पैलानी में लगातार बाढ़ का रौद्र रूप देखने को मिल रहा

चारों तरफ पीने से घिरे हुए तमाम लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर यहां इस टापू मे रह रहे हैं 
 
पैलानी में लगातार बाढ़ का रौद्र रूप देखने को मिल रहा

स्वतंत्र प्रभात 


पैलानी बांदा पैलानी तहसील के सैकड़ो गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं जिससे अब लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है पैलानी तहसील के नादादेव मजरे शंकर पुरवा में इस गांव में बाढ़ का अधिक पानी आने की वजह से लगभग दो दर्जन परिवार अपने घरों को छोड़कर एक ऊंचे स्थान पर चले गए हैं लेकिन कहीं ना कहीं इन पर बाढ़ का खतरा बना हुआ है घरो को छोड़ जिस स्थान पर इन ग्रामीणों ने अपना कैंप लगाया है इन ग्रामीणों का कहना है कि प्रशासन के द्वारा अब तक कहीं कोई मदद नहीं पहुंचाई गई है! आपको बता दें पूरा मामला बांदा जनपद के पैलानी तहसील के ग्राम नादा देव ग्राम सभा के मजरे शंकर पुरवा का है जहां पर लगभग दो दर्जन लोगों के घरों में बाढ़ का पानी भर जाने की वजह से उन लोगों ने अपना आशियाना छोड़ दिया है एक टापू पर पन्ननियो का घर बना अपना आशियाना बना लिया है हालांकि अगर बात

की जाए तो कहीं ना कहीं यह तमाम लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर उस टापू में रह रहे हैं लगातार यमुना अपने खतरे के निशान से ऊपर बह रही है तो वहीं केन खतरे के निशान के नजदीक पहुंच गई है ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर कार जिला प्रशासन इतनी बड़ी लापरवाही क्यों कर रहा है और टापू पर मौजूद लोगों को सुरक्षित स्थान पर क्यों नहीं पहुंचा रहा है  2 दिनों से यह तमाम ग्रामीण उसी टापू पर रह रहे हैं खाने-पीने की भी कुछ दिक्कतें आ रही हैं बाढ़ पीड़ित लोगों का दावा है की प्रशासन के द्वारा अब तक कोई भी राहत सामग्री स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंचाई गई है इससे सवाल उठता है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार लगातार बाढ़ प्रभावित इलाकों में अपने मंत्रियों को भेजकर रहे है और अधिकारियों को भी बाढ़ पीड़ितों की मदद करने की बार-बार निर्देश दे रहे हैं लेकिन बांदा जिला प्रशासन की लापरवाही के चलते

तमाम परिवार बेबस और मजबूर हो गए हैं कहीं ना कहीं जिला प्रशासन की एक बड़ी लापरवाही  सामने आ रही हैं बाढ़ और बारिश से बचने के लिए लोगों को पन्नी और खाने पीने की भी कोई राशन सामग्री अब तक इन बाढ़ पीड़ितों को नहीं पहुंचाई गई है वही जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि गया प्रसाद निषाद ने ग्राउंड जीरो मे पहुंचकर लोगों से बातचीत की है ये  वही नांदा देव गांव ग्राम सभा का मजरा शंकर पुरवा है पैलानी तहसील का जहां पर आप देख सकते हैं कि एक छोटे से टापू में बाढ़ की वजह से लगभग दो दर्जन परिवारों ने अपना आशियाना बना लिया है और इसी आशियाने के चारो तरफ आप देख सकते हैं टापू के चारों तरफ सिर्फ पानी ही पानी नजर आ रहा है यह जिस जगह पर टापू में बाढ़ पीड़ितों ने अपना आशियाना बनाया है यहां से केंन नदी चंद्रावल नदी और यमुना नदी का पानी आ जाता है चारों तरफ पीने से घिरे हुए तमाम लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर यहां इस टापू मे रह रहे हैं।

   

FROM AROUND THE WEB