पत्रकार दिनेश यादव दादा को झांसी के विश्वविद्यालय में किया गया सम्मानित

योजना लागू करने वालों को पता चलेगा कि इस पर पत्रकार की नजर है तो वह गलत काम करने से पहले सोचेगा और गलत काम करने से बचेगाइस अवसर पर प्रदेश के सभी जनपद के पत्रकार मौजूद रहे 
 
पत्रकार दिनेश यादव दादा को झांसी के विश्वविद्यालय में किया गया  सम्मानित 

स्वतंत्र प्रभात 

सुरियावां क्षेत्र के खरगपुर निवासी दिनेश कुमार यादव दादा को झांसी बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन उत्तर-प्रदेश इकाई झांसी प्रादेशिक सम्मेलन में भदोही से दिनेश कुमार यादव दादा  मनोज वर्मा अमृतलाल अग्रहरि  को  प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया इस दौरान दिनेश कुमार यादव दादा ने कहा कि ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन उत्तर-प्रदेश लगातार पत्रकार के हित के लिए संघर्ष करता है उन्होंने कहा कि  पत्रकार यदि समय समय गांव का दौरा करते रहें और वहां के निवासियों के निरंतर सम्पर्क में रहे तो उन के पास कभी खबरों का टोटा नहीं होगा। गांव के नाम पर कई पत्रकार नाक भौं सिकोड़ने लगते हैं

मगर ऐसा ठीक नहीं। माना गांव में पत्रकारों को वह सब नहीं मिलता जो शहरों में मिलता है। अगर आप को गांव जाने का चस्का एक बार लग गया तो फिर आप के लेखन की दिशा ही बदल जाएगी सामान्य रुटीन समाचारों के अतिरिक्त गांव में समाजिक सरोकारों से जुड़े ऐसे समाचार होते हैं जो पाठकों को नया अनुभव देते हैं। समय-समय पर गांवों में विभिन्न सरकारी योजनाएं चलती रहती हैं इन याजनाओं से गांवों में आए बदलाव के साथ साथ योजना में भ्रष्‍टाचार के समाचार भी गांव के हित में होते हैं। अगर इन योजनाओं पर पत्रकार पैनी नजर रखेंगे तो योजना का जो लाभ मिल रहा है वह और अधिक मिलने लगेगा क्यों कि जब

   

FROM AROUND THE WEB