प्रतिनिधि को कहा कि सीवर पाईप लाईनो को बिछाने के दौरान जहां-जहां सडक़ें क्षतिग्रस्त हुई हैं,

पेनेल्टी लगाने की कार्रवाई निश्चित है निगमायुक्त की मीटिंग में मुख्य अभियंता महीपाल सिंह, अधीक्षण अभियंता श्याम सिंह, एक्सईएन सतीश शर्मा तथा वाप्कोस एजेंसी के प्रतिनिधि मौजूद रहे              
 
प्रतिनिधि को कहा कि सीवर पाईप लाईनो को बिछाने के दौरान जहां-जहां सडक़ें क्षतिग्रस्त हुई हैं, 

स्वतंत्र प्रभात 


अमरूत के तहत चल रहे कार्यों को जल्द पूरा करने के लिए निगमायुक्त अजय सिंह तोमर ने एसआईपीएल-आरकेएस कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर के साथ की जरूरी मीटिंग, अनावश्यक देरी करने पर जताई नाराजगी, प्रोजेक्ट को स्पीडअप कर दिसम्बर में पूरा करने के दिए निर्देशकरनाल 12 सितंबर,शहर में अमरूत के तहत किए जा रहे कामो में अनावश्यक देरी और गम्भीरता ना दिखाने के लिए नगर निगम आयुक्त अजय सिंह तोमर ने एसआईपीएल-आरकेएस कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर को बुलाकर उसे निर्देश दिए कि अब ओर देरी बर्दाश्त नहीं, कार्यों को स्पीडअप कर प्रोजेक्ट को जल्दी पूरा करें। उन्होंने कम्पनी

उनकी रिस्टोरेशन यानि मरम्मत कार्य साथ-साथ मुकम्मल करें।निगमायुक्त ने बताया कि अमरूत के इस प्रोजेक्ट में 8 एमएलडी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) कम्बोपुरा, 12 एमएलडी इंटरमीडिएट पम्पिंग स्टेशन (आईपीएस) दहा तथा करीब 19 किलोमीटर सीवर पाईप लाईन बिछाई जानी थी।

निगमायुक्त ने कम्पनी प्रतिनिधि को निर्देश दिए कि 8 एमएलडी एसटीपी का सिविल वर्क पूरा हो चुका है, इलैक्ट्रो मैकेनिकल कार्य अभी लंबित है, इसे जल्द पूरा करें। उन्होंने कहा कि आईपीएस दहा का कार्य भी 40 प्रतिशत ही मुकम्मल हो पाया है, इसमें अतिरिक्त लेबर लगाकर इसे मुकम्मल करें। उन्होंने सीवर पाईप लाईन डालने के कार्य को भी तेजी से मुकम्मल करने के निर्देश दिए। बता दें कि 19 किलोमीटर सीवर लाईन में से करीब 15 किलोमीटर पाईप लाईन बिछाई जा चुकी है, शेष कार्य प्रगति पर है। उन्होंने कहा कि सडक़ें और गलियों को दुरूस्त करने के लिए नागरिकों की आए दिन शिकायतें आ रही हैं, लोग अपनी परेशानी बताते हैं, इसे प्राथमिकता पर दूर करना है। निगमायुक्त ने उपरोक्त सभी कार्य आगामी दिसम्बर अंत तक हर हाल में पूरा करने के कम्पनी प्रतिनिधि को निर्देश दिए।


 दूसरी ओर निगमायुक्त ने एक अन्य, अनिल चुघ एजेंसी के प्रतिनिधि से मीटिंग कर सडक़ों के निर्माण कार्य में हो रही देरी को लेकर निर्देश देते कहा कि आगामी 2 माह में सडक़ों के सुदृढ़ीकरण कार्य को मुकम्मल करें। बता दें कि उपरोक्त कार्य में 1 सडक़ गांव उचानी में, 2 सडक़ें गांव बलड़ी में, 1 सडक़ फूसगढ़ स्थित 20 एमएलडी एसटीपी प्लांट को जाने वाला रास्तातथा 1-1 सडक़ गांव फूसगढ़, बूढ़ाखेड़ा व कैलाश में, का सुदृढ़ीकरण किया जाना था। इसमें से गांव उचानी की सडक़ का कार्य मुकम्मल हो चुका है तथा 20 एमएलडी एसटीपी व गांव बलड़ी की सडक़ों का कार्य प्रगति पर है। निगमायुक्त ने एजेंसी प्रतिनिधि को निर्देश दिए कि शेष 3 सडक़ों का कार्य

जल्दी शुरू करवाएं। इसके लिए अतिरिक्त लेबर की आवश्यकता हो तो उसे भी लगाएं, निगम का काम जल्दी पूरा चाहिएउन्होंने उपरोक्त एजेंसी प्रतिनिधियों से कहा कि अब बरसाती मौसम लगभग चल गया है। काम की ढीली प्रगति से नागरिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, काम को गम्भीरता से लेकर करें, फील्ड में काम दिखना चाहिए, हर साईट पर अतिरिक्त लेबर लगाकर उसे पूरा करवाएं। उन्होंने एजेंसी प्रतिनिधि को स्पष्ट किया कि अगर कार्य में तेजी नहीं देखने को मिली तो पेनेल्टी लगाने की कार्रवाई निश्चित है।  निगमायुक्त की मीटिंग में मुख्य अभियंता महीपाल सिंह, अधीक्षण अभियंता श्याम सिंह, एक्सईएन सतीश शर्मा तथा वाप्कोस एजेंसी के प्रतिनिधि मौजूद रहे।                   

   

FROM AROUND THE WEB