अघोषित बिजली कटौती से लगातार उपभोक्ता और किसान परेशान

 
अघोषित बिजली कटौती से लगातार उपभोक्ता और किसान परेशान 


स्वतंत्र प्रभात
भीटी अम्बेडकर नगर।


भीटी तहसील क्षेत्र के सभी गांवों की बिजली व्यवस्था बदहाल है। दिन-रात अघोषित कटौती की जा रही है।इससे भीषण गर्मी में ग्रामीण बेहाल हैं।

  भीटी तहसील क्षेत्र के सभी गांवों की बिजली व्यवस्था बदहाल है। दिन-रात अघोषित कटौती की जा रही है इससे भीषण गर्मी में ग्रामीण बेहाल हैं।विद्यार्थियों की पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है।उधर,शिकायत के बाद भी अफसर समस्या का समाधान नहीं कर रहे हैं।

भीटी उपकेंद्र के फीडर से  क्षेत्र के भीटी,मंझनपुर, सम्मनपुर, चिट्यूनिया, दुबानेका पूरा,काही खजुरी, तेजापुर आदि दर्जनों गांवों में बिजली आपूर्ति की जाती है। ग्रामीणों ने बताया कि बिजली के आने और जाने का कोई समय नहीं रह गया है।

दिन में सुबह 11 बजे से शाम पांच बजे तक कटौती होती है।रात को भी कम से कम पांच बार लाइट काटी जाती है। *रोस्टर क्या है* ? इसकी किसी को जानकारी ही नहीं है।पूछने पर अधिकारियों का साफ कहना होता है कि रोस्टर ऊपर से रोजाना तय किया जाता है।उधर,बिजली नहीं मिलने से ग्रामीण बेहाल हैं।दिनभर खेतों में गन्ने की सिंचाई करने के बाद रात को किसान घर पहुंचते हैं,तो उनकी नींद हराम रहती है।

विद्यार्थियों की पढ़ाई पर भी इसका सीधा असर पड़ रहा है।छोटे-छोटे उद्योग प्रभावित हो रहे हैं।ग्रामीणों का साफ कहना है कि शिकायत के बाद भी अफसर और नेता हाथ पर हाथ धरे बैठे हुए हैं।विद्युत उपकेंद्र महारुआ के उपभोक्ताओं का कहना है कि बिजली विभाग के अधिकारियों के सरकारी नंबर रिसीव नहीं होते हैं। 

बार-बार फोन करने पर फोन नहीं उठाया जाता है। वही कटेहरी विधानसभा क्षेत्र के नेता आपसे वर्चस्व में परेशान हैं कटेहरी विधानसभा के सभी नेताओं को कटेहरी क्षेत्र की जनता की कोई सुध नहीं है इनको जनता की याद चुनाव के समय ही जाती है इनका टेलीफोन केवल थाने ने पर दलाली करने के लिए ही जाता है। 

बिजली व्यवस्था,स्वास्थ्य व्यवस्था,शिक्षा व्यवस्था आदि पर कटेहरी विधानसभा के सभी पार्टी के नेताओं का कोई उत्तरदायित्व भी नहीं रहा। चाहे कटेहरी क्षेत्र के मौजूदा विधायक हों या भारतीय जनता पार्टी सत्ताधारी दल की राजनीति करने वाले नेता हों या विधान परिषद सदस्य हों इन सभी को जनता की किसी समस्या से कोई सरोकार नहीं है।

FROM AROUND THE WEB