पानी की निकास न होने से रास्ते पर भरा गंदा पानी

तालाब पाटकर ग्रामीणों ने किया कब्जा वर्षों से गांव का सीधा रास्ता बंद, ग्राम पंचायत ने नहीं दिया ध्यान 

 
पानी की निकास न होने से रास्ते पर भरा गंदा पानी 

स्वतंत्र प्रभात 

बिसवां सीतापुर जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश सरकार गांवों में रहने वाले लोगों के उत्थान और उनकी आर्थिक स्थिति सुधारने तथा ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधाएं एवं अच्छी शिक्षा देने के लिये जिले से लेकर ग्राम पंचायत स्तर तक विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित करने में पूरे दम खम से जुटी हुई है जिन फर करोड़ों रुपया भी खर्च किया जा रहा है बावजूद इसके ग्रामीण इलाकों में ऐसी कई  ग्राम पंचायतें हैं जिनमें रहने वाले तमाम लोग आज भी गंदगी व महामारी का दंश झेलने को मजबूर हैं। उनकी व्यथा सुनने वाला कोई नहीं है। ऐसा ही एक मामला बिसवां विकास खण्ड की ग्राम पंचायत जहांगीराबाद में देखने को मिला जहां कस्बे से मात्र 500 मीटर की दूरी पर बसे हजारों की आबादी वाले मजरा गांव दानपुरवा तक जाने वाले प्रमुख आर सी सी मार्ग पर कई वर्षों से भारी मात्रा में नालियों से निकलने वाला गंदा पानी व कीचड़ भरा हुआ है।

यहां के रहने वालों ने काफी इंतजार के बाद मजबूरी में काफी घूम कर दूसरी ओर के रास्तों से आना जाना शुरु कर दिया है। पानी की निकास न होने से रास्ते पर काफी दिनों से भरे नाली के पानी से दुर्गन्ध आने लगी है। इस रास्ते के किनारे रहने वाले लोग नारकीय जीवन जीने पर मजबूर हैं।किसी भी समय आसपास भयंकर महामारी फैलने की भी आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। इतना ही नहीं जहांगीराबाद टैम्पो स्टैण्ड से सीधे दानपुरवा गांव जाने वाले इस आर सी सी रास्ते पर गांव के किनारे बने मदरसा दायरतुल मारिफ अल इस्लामिया तुल कास्मिया की बिल्डिंग के पूर्वी किनारे से लेकर गांव की आबादी तक भारी मात्रा में नालियों का बदबूदार गंदा पानी व कीचड़ भरा हुआ है। पानी भरा होने से मच्छरों की भी भरमार हो गयी है। जिससे मदरसे में पढ़ने वाले बच्चों में भी वायरल व मलेरिया बुखार फैलने की संभावना है। यहां के बाशिंदों मोहम्मद

सलीम, अजमत अली, मोहम्मद अहमद व नबी अहमद आदि ने बताया कि इस सम्बन्ध में पूर्व और वर्तमान ग्राम प्रधान से अनेकों बार निवेदन किया गया लेकिन आजतक उसे ना तो कार्य योजना में शामिल किया और ना ही बनवाया है। दर्जनों ग्रामीणों ने जल्द से जल्द ग्राम पंचायत से इस रास्ते पर भरे गंदे पानी को निकलवाने की व्यवस्था कर रास्ता साफ कराकर आवागमन बहाल कराने की मांग की है जिससे आसपास रहने वाले गरीब राहत की सांस ले सकें।इस सम्बन्ध में ग्राम प्रधान प्रतिनिधि मुशीर अहमद अंसारी ने बताया कि इसका प्रस्ताव कार्य योजना में पड़ा हुआ है।थोड़ा मौसम बरसात का खतम हो जाये तो कुछ पानी जब कम हो जायेगा तो रास्ते के दोनों किनारों पर गहरी नालियां बनवाकर गांव की ओर से रास्ते की पटाई कराकर जल्द ही रास्ते को बहाल कर दिया जायेगा। नालियों का पानी कहाऔ जायेगा सवाल पर उन्होंने बताया कि पड़़ोस में तालाब है जिसपर आसपास के लोगों ने पटाई करके अतिक्रमण कर रखा है।लेखपाल से नपाई के लिये कहा गया है।जल्द ही नपाई कराकर तालाब की खुदाई करायी जायेगी और नालियों का पानी तालाब में गिराया जायेगा जिससे ग्राम वासियों को इस समस्या से निजात मिल जायेगी। 

   

FROM AROUND THE WEB