कीचड़ युक्त रास्ते से गुजरने को मजबूर स्कूली छात्र मार्ग बनवाने की मांग

शिक्षा के मंदिर को जाने वाले रास्ते में कीचड़ एवं जलभराव की समस्या 
 
कीचड़ युक्त रास्ते से गुजरने को मजबूर स्कूली छात्र मार्ग बनवाने की मांग

स्वतंत्र प्रभात-

डलमऊ। रायबरेली नगर पंचायत डलमऊ में स्थित डलमऊ पब्लिक स्कूल जिस का संचालन लगभग 8 वर्ष पूर्व से हो रहा है नगर पंचायत के शंकर नगर मोहल्ले में स्थित शिक्षा के मंदिर में अभिभावक अपने बच्चों को नहा धुला कर भेजते हैं।  की ताकि बच्चा साफ-सुथरे तरीके से क्लास मैं बैठकर अपने आप को स्वच्छ महसूस कर सकें जब बच्चे साफ सुथरा स्वच्छ रहेंगे तो उनका ध्यान भी पढ़ाई की ओर मगन होगा लेकिन यहां स्कूल आने जाने के लिए रास्ता सौ से डेढ़ सौ मीटर कच्चा रास्ता बच्चों की पोरी पोशाक को तहस-नहस कर देता है जिससे बच्चे मायूस होकर क्लास में बैठे रहते हैं और अपने आप को अस्वच्छ महसूस करते हैं क्योंकि बारिश का महीना चल रहा है  कच्चे रास्ते में बच्चे अक्सर पैर स्लिप कर जाने से गिरते संभलते स्कूल के अंदर प्रवेश करते हैं। अब ऐसी स्थिति में अभिभावक स्कूल प्रबंधन से शिकायत करते हैं। स्कूल प्रबंधन का कहना है कि हमने कई बार इसकी शिकायत नगर पंचायत अध्यक्ष व अधिशासी अधिकारी से की लेकिन रास्ता अभी तक नहीं बन सका  स्कूल प्रबंधन का कहना है कि हर बार बजट का हवाला देकर नगर पंचायत अध्यक्ष मुंह फेर लेते हैं ऐसे में एक सवाल तो बनता है कि क्या नगर पंचायत के पास इतना भी बजट नहीं है कि डेढ़ सौ मीटर का रास्ता बनवाया जा सके या नगर पंचायत जानबूझकर यह रास्ता बनवाना नहीं चाहती है। बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे जिम्मेदारों को दफ्तर से बाहर निकलकर स्थित का जायजा लेते हुए रास्ता किलियर करवाना चाहिए ताकि सुबे की योगी सरकार की मंशा शिक्षा को शिखर पर पहुंचाने की किरकिरी न हो सके इस संदर्भ में अधिशासी अधिकारी को स्कूल प्रबंधन की ओर से एक और लिखित  पत्र सौंपा गया

   

FROM AROUND THE WEB