रिश्वत की दूसरी क़िस्त ना दे पाने के कारण शादी अनुदान निरस्त

 
रिश्वत की दूसरी क़िस्त ना दे पाने के कारण शादी अनुदान निरस्त


स्वतंत्र प्रभात
अम्बेडकरनगर।

बेटी के विवाह के लिए अनुसूचित जाति के गरीब पिता ने शासन द्वारा उपलब्ध कराए जाने वाले विवाह अनुदान की ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी किया लेकिन समाज कल्याण विभाग के एक लिपिक द्वारा उससे दो हज़ार रुपये को रिश्वत मांगी गई लेकिन गरीब पिता ने मात्र एक हज़ार रुपये ही दिया तो विभागीय बाबू ने अनुदान पास नहीं किया 

जिसके बाद गरीब पिता ने जब बाबू से अपना पैसा वापस मांगा तो अब उसे धमकी मिलने लगी है जिससे भयभीत होकर मजबूर पिता ने जिलाधिकारी से न्याय की गोहार लगाई है।मामला इब्राहिमपुर थानाक्षेत्र के अवसानपुर का है जहां के स्थाई निवासी रामकेश भारती की पुत्री का विवाह गत 21 मई 2021 को था जिसके लिए गरीब पिता द्वारा सरकार की शादी योजना अनुदान के तहत ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी किया था और फिर समाज कल्याण विभाग का चक्कर लगाने लगा।

 समाज कल्याण विभाग में तैनात एससी-एसटी बाबू आनंद द्वारा भारती से एक हज़ार रुपए लेने के बाद काफी दौड़ाया और पुनः एक हज़ार रुपये की डिमांड कर दिया इस दौरान गरीब पिता बीमार हो गया जिसके कारण बाबू आंनद को रिश्वत की दूसरी क़िस्त नहीं दे सका। रामकेश का आरोप है कि रिश्वत की दूसरी क़िस्त ना दे पाने के कारण शादी अनुदान निरस्त कर दिया गया। गरीबी की मार झेल रहे रामकेश भारती द्वारा अपना एक हज़ार रुपए जब वापस मांगा गया तो दबंग बाबू भारती को धमकी तक देने लगा। किसी अनहोनी की आशंका से भयभीत रामकेश भारती ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गोहार लगाई है।

बहरहाल समाज कल्याण विभाग में फैले भ्रस्टाचार का ये एक मात्र नमूना ही है। चर्चा है कि समाज कल्याण विभाग में बिना सुविधा शुल्क के कोई फ़ाइल इधर से उधर नहीं हो सकती है। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी से मांग किया है कि समाज कल्याण विभाग पर नकेल कसने के साथ रामकेश भारती को न्याय दिलाया जाय।

FROM AROUND THE WEB