भ्रस्टाचार का हब बनी पलिया नगर पालिका

 
भ्रस्टाचार का हब बनी पलिया नगर पालिका 

स्वतंत्र प्रभात-

अधिकारी हो या कर्मचारी हर कोई जनता को लूटकर अम्बानी अडानी बनने की होड़ में लगा हुआ है--

पलिया कलां खीरी। जहां एक ओर आये दिन बड़े बड़े टेंडर एवं सड़क घोटालों को लेकर नगर पालिका के अधिकारी एवं बाबुओं के नाम से शिकायतें उच्चाधिकारियों को भेजा जाना आम बात हो चुकी है वही बेलगाम सफाई कर्मी भी किसी से पीछे हटने को तैयार नही है जो आये दिन नाली सफाई कूड़ा हटाने के लिए सुविधा शुल्क के नाम पर व्यापारियों को प्रताड़ित करते हैं।

जिन व्यापारियों से सुविधा शुल्क मिल जाता है उनके यहाँ आसानी से सफाई की जाती है जिनसे पैसा नही मिलता है उन व्यापारियों से अभद्रता करते हुए नाली के ऊपर पड़े पत्थर तोड़ डालना कीचड़ भरी ट्राली को दुकान के सामने पलट देने की धमकी देना आम बात है।

अगर इन समस्याओं के लिए व्यापारी नगर पालिका के जिम्मेदारों को फोन करता है तो फोन ही नही उठता।

इतना सबकुछ देख कर ऐसा प्रतीत होता है कि सफाई कर्मचारियों के द्वारा मांगे जाने वाले सुविधा शुल्क में नगर पालिका के अधिकारी कर्मचारियों की संलिप्तता है जिसकी वजह से फोन नही उठता।

   

FROM AROUND THE WEB