मुस्लिम समुदाय का कादिर हिन्दू अनुसूचित जाति का फर्जी प्रमाण पत्र बनावाकर कर रहा सरकारी नौकरी

 
मुस्लिम समुदाय का कादिर हिन्दू अनुसूचित जाति का फर्जी प्रमाण पत्र बनावाकर कर रहा सरकारी नौकरी

स्वतंत्र प्रभात-

 

मामला सुल्तानपुर जिले के जयसिंहपुर तहसील के अंतर्गत खजुरी रुपिनपुर गांव का है जहां पर कादिर सुत दीवानी मुस्लिम समुदाय (पिछड़ी जाति) के परिवार का होने के बावजूद स्वयं को हिन्दू (अनुसूचित जाति) का फर्जी प्रमाण पत्र देते हुए सहायक अध्यापक के पद पर नौकरी कर रहा है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कादिर के परिवार के अन्य सदस्यों का नाम परिवार रजिस्टर तथा अन्य दस्तावेजों में मुस्लिम पिछड़ी जाति अंकित है। फिर अकेले कादिर अनुसूचित जाति का कैसे हो सकता है। कादिर के परिवार के ही कलीम सुख साबिर ने इसकी शिकायत कई बार उच्च अधिकारियों से की जिस पर अधिकारियों द्वारा प्रमाणित भी किया जा चुका है कि कादिर द्वारा अनुसूचित जाति का फर्जी प्रमाण पत्र जारी कराया गया है । कादिर ने अपने को हिंदू दिखाकर अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र संख्या 243 दिनांक 2 मई 1990 तत्कालीन सदर सुल्तानपुर से फर्जी तरीके से बनवाकर उसी आधार पर प्राथमिक विद्यालय में सरकारी नौकरी कर रहा है ।

मुस्लिम समुदाय का कादिर हिन्दू अनुसूचित जाति का फर्जी प्रमाण पत्र बनावाकर कर रहा सरकारी नौकरी

मिली जानकारी के अनुसार कादिर को इसी संदर्भ में नौकरी से बर्खास्त भी किया जा चुका है  फिर किस आधार पर उसे बहाल कर दिया गया यह जांच का विषय है। इस विषय पर मांगी गई जन सूचनाओं की स्पष्ट जानकारी भी विभाग द्वारा नहीं दी जाती। जिसमें बेसिक शिक्षा अधिकारी सुल्तानपुर की भी भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है । 

फिलहाल कादिर शासन-प्रशासन की आंखों में धूल झोंक कर फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर सरकारी नौकरी कर रहा है तथा अपने ही परिवार के कलीम सुत साबिर को आए दिन हैरान व परेशान करने के साथ-साथ उसे हरिजन एक्ट की धाराओं में फंसाने की धमकी भी देता रहता है । पीड़ित कलीम ने उच्च अधिकारियों से कादिर के द्वारा किए जा रहे फर्जीवाड़े की जांच कराते हुए निष्पक्ष कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

FROM AROUND THE WEB