लगातार भारी बारिश के कारण घाघरा का बढ़ा जलस्तर ग्रामीणों की उड़ी नींद

उधर लगातार तीन दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश ने बांध की मुश्किलों को बढ़ा दिया है जगह जगह रैंकट्स हो गए है
 
लगातार भारी बारिश के कारण घाघरा का बढ़ा जलस्तर ग्रामीणों की उड़ी नींद 

स्वतंत्र प्रभात 

गोंडा घाघरा नदी के जलस्तर में काफी तेजी से बढ़ोतरी शुरु हो गई है और 3 दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश से जलस्तर का बढ़ना जारी है इस बार बढ़ रहे जलस्तर से बांध को खतरा पैदा हो गया है। घाघरा के जलस्तर में अचानक तेजी से हो रही बढ़त से एक बार फिर एल्गिन-चरसडी बांध को खतरा पैदा हो गया है। लगातार हो रही बरसात से बांध पर जबरदस्त रेंकट्स होने के कारण बांध बेहद कमजोर स्थिति में आ गया है। लगातार बढ़ते जलस्तर ने बांध के आसपास गांव के ग्रामीणों का सुकून व नींद हराम कर दिया है। इस दौरान करीब छह किलोमीटर लंबे बांध के किनारे कटान की स्थिति बनी हुई है। लगातार सरयू नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। 

शुक्रवार शाम को जलस्तर खतरे के निशान से 31 सेंटीमीटर नीचे यानी 105.766 पर था। वहीं शनिवार को सुबह को 13 सेंटीमीटर नीचे पहुंच गया। दोपहर को जलस्तर बढ़कर खतरे के निशान को पार करके 6 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच गया। उस समय पानी का डिस्चार्ज 4 लाख 1 हजार 614 क्यूसेक रहा। शाम होते होते जलस्तर में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की गई। शाम तक घाघरा का जलस्तर खतरे के निशान से करीब 8 सेंटीमीटर ऊपर चला गया। रविवार को जलस्तर में बढ़ोत्तरी अधिक होने की सम्भावना जताई जा रही है। यह जलस्तर तेजी से बढ़त बनाए हुए है जो खतरे के निशान से एक मीटर ऊपर जाने कि आशंका है। उधर लगातार तीन दिनों से हो रही मूसलाधार बारिश ने बांध की मुश्किलों को बढ़ा दिया है। जगह जगह रैंकट्स हो गए है। 

   

FROM AROUND THE WEB