भू-माफियाओं के आगे नत मस्तक हुआ प्रशासन

 
भू-माफियाओं के आगे नत मस्तक हुआ प्रशासन
 

स्वतंत्र प्रभात

मिल्कीपुर अयोध्या।

 मिल्कीपुर तहसील क्षेत्र में भू-माफियाओं के सामने पुलिस प्रशासन नय मस्तक हो चुका है। यहां तक कि उन्हें न्यायालय के आदेशों का भी पालन कराने का समय नहीं है, उल्टे शिकायतकर्ता को ही जेल भेजने की धमकी देते हैं। ताजा मामला कुमारगंज थाना अंतर्गत देवगांव चौकी से जुड़ा है। जहां पर जसकरन, राम बहाल, केशव कुमार पुत्रगण जग प्रसाद निवासी देवगांव की पैतृक सम्पत्ति खाता संख्या 366 रकबा 0.322 हेक्टेयर मुस्तरका है। इस खाते में भूमिधरी रामराज भी नाम शामिल है। रामराज के पत्नी व एक पुत्र है। रामराज की बेस कीमती भूमि पर खड़सेपुर मजरे रानिक पुर निवासी बेंचू खां पुत्र अब्दुल गनी की नजर लगी थी। रामराज के मरते ही बेचू खां के द्वारा तहसील कर्मियों से मिलीभगत कर दाखिल खारिज भाग्यदेई के नाम कराकर जमीन को अपने नाम बैनामा 10 अगस्त 2001 को करा लिया। दाखिल खारिज के दौरान तहसील कर्मियों को रामराज के लड़के होने का भनक तक नहीं लगने दिया। वरासत केवल मृतक के पत्नी के नाम ही दर्ज हो सकी।

    शिकायतकर्ता द्वारा बताया गया कि हम लोग रोजी रोजगार के लिए दिल्ली शहर में रहकर लेबर की नौकरी करते थे। यहां पर बेचू खां लड़के पीर मोहम्मद, पीर अली व पीर बक्स के द्वारा जमीन का बिना बंटवारा किए रोड से सटाकर निर्माण करने लगे। जिसकी शिकायत हम लोगों के द्वारा तहसील प्रशासन से लेकर पुलिस प्रशासन से की गई। लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई। उल्टे पुलिस के द्वारा पीड़ित को ही जेल भेजने की धमकी दी जाने लगी। साथ ही बताया कि हम लोगों के द्वारा कुर्रा बंटवारा के लिए चकबंदी न्यायालय में वाद दाखिल किया था। उक्त आरोपी की नियत साफ ना होने के कारण हम लोगों ने चकबंदी अधिकारी मिल्कीपुर के द्वारा 17 दिसंबर को स्थगन आदेश पारित करते हुए जमीन पर यथास्थित कायम रखने का आदेश पारित किया गया। बावजूद स्थानीय पुलिस प्रशासन से मिलीभगत कर विपक्षी बेंचू खा के पुत्र पीर मोहम्मद,पीर बक्स, पीर अली के द्वारा अवैध निर्माण किया जा रहा है। 

    जबकि चकबंदी न्यायालय मिल्कीपुर द्वारा 27 दिसंबर को कुर्रा बंटवारे को लेकर चल रहे वाद में चकबंदी न्यायालय के कुर्रा बटवारा करने का आदेश भी शिकायत कर्ता के हक में जारी कर दिया गया है। जिसकी कॉपी चौकी प्रभारी देवगांव को दिया पर नजर अंदाज कर चौकी प्रभारी मनीष चतुर्वेदी के द्वारा अवैध रूप से निर्माण कराया जा रहा है। मामले को लेकर थानाध्यक्ष वीर सिंह ने बताया कि ऐसा कोई आदेश पारित नहीं है। जिससे काम रुकवाया जा सके। फिलहाल चौकी इंचार्ज को मौके पर भेजा गया है।

FROM AROUND THE WEB