गर्भवती महिलाओं बच्चों को गांव में नहीं मिल रहा पोषाहार , आंगनबाड़ी बेच कर हो रही मालामाल

 
गर्भवती महिलाओं बच्चों को गांव में नहीं मिल रहा पोषाहार , आंगनबाड़ी बेच कर हो रही मालामाल

स्वतंत्र प्रभात 

पचपेड़वा (बलरामपुर ) 


सरकार द्वारा संचालित तमाम योजनाओं के लाभ से ग्रामीण महिलाओं और बच्चों को वंचित करते हुए विभाग के अधिकारी और कर्मचारी खुद का विकास करने मे लगे हैं । 

ताजा मामला पचपेड़वा विकास खण्ड के गांव विशुनपुर विश्राम ,भुसहरपुरई ,भगवानपुर कोरड़ आदि दर्जनों गांवों का है जहाँ पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री  के द्वारा गर्भवती महिलाओं और नौनिहालों को सरकार से मिलने वाले राशन , घी ,तेल आदि पोषाहारों का वितरण नहीं किया जा रहा है । क्षेत्रीय सुपरवाइजर प्रभावती के साथ मिलकर मिलने वाले पोषाहार को हमेशा बेंचकर आपस मे धन का बंदरबांट कर लिया जाता है । 

गांव के तमाम गर्भवती महिलाओं और छोटे छोटे नौनिहालों के माता पिता ने बताया कि सरकार से मिलने वाले पोषाहारों को गांव में कार्यरत र्आंगनबाड़ी कार्यकत्री बेंच कर मोटी कमाई कर रही है । जब हम लोग पोषाहार मांगने जाते है तो वह वांटगे कहकर टाल देती हैं और कहती है कि अभी कुछ नहीं आया है जब आयेगा तो दिया जायेगा । इस पूरे मामले पर जब हमारे संवाददाता ने दूरभाष पर सुपरवाइजर पार्वती से बात करना चाहा तो उनके पतिदेव ने बताया कि पिछले माह से ही किसी तरह का कोई पोषाहार आया ही नही है ।

 इस माह यानी कि मई मे आयेगा तो  जल्द ही उसका वितरण करा दिया जायेगा । जबकि अधिकृत सुपरवाइजर पार्वती ने किसी तरह से बात ही नहीं किया । तो अब सवाल यह उठता है कि सुपरवाइजर के पति एक अनाधिकृत आम व्यक्ति है वह कैसे मीडिया को जवाब देते हुए दावा करते हैं कि पोषाहार आता ही नही है या आयेगा तो बांट दिया जायेगा । 

जब इस सम्बन्ध में सी डी पी ओ बलरामपुर से जानकारी लेना चाहा तो उन्होंने कहा कि हमें किसी प्रकार की कोई जानकारी नहीं है जांच करवा कर भ्रष्ट आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर कार्यवाही किया जायेगा  गांव की तमाम महिलाओं ने इस पूरे प्रकरण की जांच कर महिलाओं बच्चों को सरकारी लाभ से वंचित करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकत्री के खिलाफ कार्यवाही करने का मांग किया है ।

FROM AROUND THE WEB