बैंक मैनेजर की लापरवाही से ग्राहक रहते परेशान

पैसे निकालने के लिए ग्राहकों को सुबह से शाम तक करना रहता है इंतजार,:- अधिकारी मौन

 
बैंक मैनेजर की लापरवाही से ग्राहक रहते परेशान


सुबेहा बाराबंकी:-
छोटी-छोटी पूंजी जमा निकासी के करने के लिए ग्राहको को बैंक के चक्कर न काटने पड़े और आसानी से लोगो को पैसा मिल सके इसके लिये शासन की तरफ से भले ही बैंक मित्र की तैनाती की गई हो लेकिन अपने तैनाती क्षेत्रों में कार्य न करके बैंक मित्र कार्य न करके बैंकों के अन्दर ही जमे ही रहते है और अपनी दुकान सजाये हुए है जिसका जीता जागता उदाहरण देखना है तो आर्यावर्त ग्रामीण बैंक शाखा कमेला में कभी भी आकर देखा जा सकता है 

यहाँ पर तैनात कुछ बैंक मित्र

 अपने कार्यक्षेत्र मे कार्य न करके बैंक के अन्दर जमे रहते है, जिससे लोगो को काफी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा हैं और छोटी छोटी पूंजी जमा निकासी के  लिये दूरदराज चलकर बैक आना पड़ रहा है। इसके अलावा यहां पर बैंक कर्मचारियों द्वारा नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है यहां पर पैसों के लेनदेन के लिए महिलाओं और पुरुष के अलग-अलग काउंटर की व्यवस्था न होने से धक्का-मुक्की होती रहती है।
 ग्राहकों की माने तो यहां पर कर्मचारियों द्वारा ग्राहकों से पैसे का भुगतान व अन्य कागजी कार्य करके बेवजह परेशान किया जा रहा हैं। और यहां पर प्रभावशाली माफिया व्यक्तियों के लिए कोई नियम कानून नहीं माने रखता है और उनका कार्य तुरंत कर दिया जाता है ,

उन्हे लाईन लगने की जरूरत नही पडती गेट के बाहर से आवाज लगाते ही उन्हे विदड्रल मिल जाता है  और तत्काल पैसे का भुगतान भी कर दिया जाता है।
 वही गरीब आम जनता अपने जमा पैसे निकालने के लिए सुबह से लेकर शाम तक भूखे प्यासे घंटों इन्तज़ार करने के बाद बडी मुश्किल से पैसा मिल जाय तो बडी बात है कर्मचारी कभी कैस खत्म होने व कभी समय समाप्त होने की बात कहकर विना पैसा के ही ग्राहकों को वापस कर दिया जाता है, वही इसके अलावा पासबुक एंट्री करने में भी जमकर मनमानी की जाती है और कभी मशीन खराब होने तथा कभी नेटवर्क न होने का हवाला देकर वापस कर दिया जा रहा है।

वही कोरोना प्रोटोकॉल की भी जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है बैंक मैनेजर से कोई शिकायत करो तो वो कहते है हमसे कोई मतलब नही,अब ग्राहक किसके पास अपनी समस्या लेकर जाए,
ग्राहक परेशान,और एक बात तो ये है कि बैंक में जो चपरासी काम करता है वो अपने यहां के लोगों के पैसे निकासी व जमा करने के लिए उनका सबसे पहले काम करवा देता है,और कुछ तो ऐसे है जिसको न तो बैंक कर्मियों की जरूरत न ही बैंक मैनेजर से कोई मतलब वो सब अपने हाथ से बैंक ऑफिस में घुसकर अपना सारा काम कर लेते है।
इसमें बैंक मैनेजर की बड़ी लापरवाही नजर आ रही है जो ग्राहकों के लिए बड़ी समस्या खड़ी कर रही है।

FROM AROUND THE WEB