जान को जोखिम में डालकर ग्रामीण आवागमन के लिए मजबूर

प्रशासन कब तक अपनी आंखें खोलता है शायद किसी घटना व दुर्घटना का होने के बाद ही प्रशासन अपनी चुप्पी तोड़कर इस पर कोई तत्काल कार्यवाही करेंगे जान को जोखिम में डालकर ग्रामीण आवागमन के लिए मजबूर  
 
 जान को जोखिम में डालकर ग्रामीण आवागमन के लिए मजबूर 

स्वतंत्र प्रभात 

सुल्तानपुर जनपद सुल्तानपुर के विकास खंड क्षेत्र अखंडनगर में सजमपुर गांव में रेलवे विभाग के बाउंड्री वॉल व अन्य कार्य की वजह से लोक निर्माण विभाग की सड़क पूरी तरीके से क्षतिग्रस्त हो गई है जिसकी संबंधित शिकायत ग्रामीणों ने जिलाधिकारी मुख्यमंत्री जनता दर्शन,ऑनलाइन जनसुनवाई के माध्यम से सभी विभागों को दे दी है दिनांक 02/08/2022 को मुख्यमंत्री जनता दरबार में संबंधित शिकायत को देने के बाद वहां से विशेष कार्याधिकारी द्वारा संबंधित शिकायत को जिलाधिकारी को फॉरवर्ड किया गया जिसके बाद लोक निर्माण विभाग सुल्तानपुर द्वारा अधिशासी अभियंता उत्तर रेलवे को मार्ग निर्माण व मरम्मत के लिए पत्र भेजा गया तथा शिकायतकर्ता को प्रतिलिपि भेजी गई परंतु ऐसी दयनीय स्थिति होने के बावजूद आबादी के बिल्कुल सामने गहरा गड्ढा एवं लोहे की जाल खड़ी हुई है और ग्रामीणों के पास जलभराव की वजह से अन्य कोई भी रास्ता ना होने के कारण उसी

गड्ढे के बगल एक पतले से पगडंडी से अपनी जान को जोखिम में डालते हुए आवागमन करने को मजबूर हैं जिला प्रशासन व रेलवे विभाग को आम जनमानस की यह दुर्दशा शायद दिखाई नहीं दे रही है जहां एक तरफ ग्रामीण सभी विभागों का चक्कर काट रहे हैं और लगभग 2 से 3 मह के संघर्ष के बाद मार्ग निर्माण व मरम्मत का आदेश हुआ है पर वर्तमान समय की इस दयनीय स्थिति से निपटने के लिए ग्रामीण अपनी जान को जोखिम में डालकर आवागमन कर रहे हैं इस पर प्रशासन मौन है और कागजी कार्यवाही करके मामले को निस्तारित दिखा रहे हैं देखना है कब तक ग्रामीण इस प्रकार से आवागमन करते हैं 

   

FROM AROUND THE WEB