जटहां/परसौनी–बगहा गंडक एनएच 727 बनने पर सुरक्षित हो जाएंगे वन्य प्राणी

सांसद कुशीनगर विजय कुमार दूबे से जटहां बाजार के व्यापारियों ने पूल सड़क निर्माण का उठाए हैं मांग तो परसौनी के ग्रामीणों ने वाल्मिकी नगर बिहार के सांसद सुनील कुमार को गंडक में पूल निर्माण कार्य कराएं जाने का किए हैं मांग
 
जनप्रतिनिधि

स्वतंत्र प्रभात

ब्यूरो प्रमुख प्रमोद रौनियार 

कुशीनगर। बाल्मीकि नगर व्याघ्र वन क्षेत्र के अधिकारियों द्वारा मार्च 2023 में वन क्षेत्र मार्ग को बंद करने का जब से ऐलान किया है तब से यूपी-बिहार को जोड़े रखने के लिए यूपी और बिहार सीमावर्ती क्षेत्रों में जाने आने के लिए बढ़ी मुश्किलों की कवायद तेज हो गई है।
मुश्किल दौर में फसे दो राज्य के सीमावर्ती लोग
विदित हो कि वन विभाग के अधिकारियों के अनुसार अधिकारियों ने वन्य जीव जंतुओं की सुरक्षा को लेकर जंगल मार्ग से बिहार जाने के लिए या यूपी में आने के लिए संपर्क मार्ग हेतु कभी तैयार नहीं था लेकिन यूपी बिहार के जनप्रतिनिधियों के साथ वन अधिकारियों के बीच हुए समझौते के तहत कुछ समय के लिए तैयार हो गया समझौते के अनुसार अब समय पूरा हो चुका है और वन अधिकारियों ने जंगल मार्ग को बंद करने के लिए कमर कस लिया है जिससे यूपी बिहार में आने जाने वाले लोग हो या वाहनों पर प्रतिबंध लग जाएगा। इस मुश्किलों से घिरे दो राज्य के लोगो में आने जाने के लिए माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं।
कम लागत और अधिक लाभ पर विचार करे जनप्रतिनिधि 
ऐसे में अब यूपी और बिहार सीमावर्ती इलाकों में आने जाने के लिए बिहार के जनप्रतिनिधियों द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय को पत्र देकर यूपी और बिहार को जोड़े रखने के लिए प्रस्ताव भेजा है जिसमें यह बताया जा रहा है कि बिहार के बगहा से कतकी होते हुए कुशीनगर जनपद के नरकहवा से बेलवनिया एनएच 727 में जोड़ने की योजना बनाई है। बनाई गई इस योजना से सीधा लाभ बगहा के नदी दक्षिण के गांवो में निवास करने वाले ग्रामीणों को नहीं मिलेगा और इस प्रस्ताव को सुनकर घोर उपेक्षा का माहौल कायम हैं। जब की बिहार के लोगो के साथ सौतेला व्यवहार कर विपरीत दिशा में में एनएच 727 मार्ग निर्माण प्रस्तावित किया जा रहा है। वही इस मार्ग की दूरी करीब 15 किलोमीटर होगी जिस पर सरकार की लागत बहुत ज्यादा आयेगी। बताते चलें कि इस मार्ग के बनने पर बगहा जिला से गंडक दक्षिण बिहार के पिपरासी ब्लॉक मधुबनी ब्लॉक ठाकरा ब्लॉक के सैकड़ों गांव हो या कुशीनगर जनपद के पडरौना विधानसभा क्षेत्र के लोगों को सीधा लाभ नहीं मिलने वाला है जबकि बिहार के जनप्रतिनिधियों को चाहिए कि अपने राज्य के लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए बगहा एनएच 727 से जटहां से या परसौन से यूपी के नेबूआ नौरंगिया पिच मार्ग से जोड़ने पर सीधे-सीधे बगहा नदी क्षेत्र के दक्षिण ब्लॉक परसौनी,मधुबनी,दहवा क्षेत्र के गांव के लाखों ग्रामीणों को बिहार में आने जाने का लाभ मिलेगा। इससे क्षेत्र से जनप्रतिनिधियों के निर्णय का व्यापक सम्मान और प्यार आशीर्वाद भी मिलेगा।
डेढ़ दशक से हो रही मांग
वैसे तो डेढ़ दशक से पडरौना विधानसभा क्षेत्र के व्यापारी किसान मजदूर बेरोजगार नौजवान युवाओं द्वारा लोकसभा क्षेत्र के पूर्व सांसदों से मांग जटहां बगहां गंडक पर पुल का निर्माण हेतु किया जाता रहा है। वर्तमान सांसद विजय कुमार दुबे से भी सांसद बनने के बाद से जटहां बाजार के पत्रकार प्रमोद रौनियार, पूर्व ग्राम प्रधान भोला जायसवाल भाजपा के मंडल मंडल उपाध्यक्ष श्रीकांत जायसवाल प्रदीप जायसवाल सहित क्षेत्र के गणमान्य नागरिक और दर्जनों ग्राम प्रधान द्वारा दर्जनों बार बार मांग उठाई गई है। सांसद द्वारा गंडक में पुल निर्माण कार्य को ऐतिहासिक कार्य बताया और जनउपयोगी के रूप में सराहा भी गया और गंडक में पुल निर्माण के लिए भरोसा दिया गया। सांसद विजय कुमार दुबे के द्वारा केंद्रीय जहाज रानी सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी जी को पत्र देकर जटहां बगहा गंडक पर पुल निर्माण की मांग उठा चुके हैं। सांसद ने आश्वासन दिया कि जटहां बगहा पुल ऐतिहासिक पुल है निश्चित रूप से पुल बनवाने का कार्य करूंगा। इस पुल के निर्माण होने पर दो राज्य के लोगों का आवागमन होने के साथ आयात निर्यात व्यापार का बढ़ावा मिलेगा। इस पुल के निर्माण होने पर कटाव भी बंद हो जाएगा जिसे भारत के किसान अपने खेतों में फसल उगा सकेंगे और उपेक्षित क्षेत्र में खुशहाली लौट आएगी।
प्रस्ताव पर विचार करे जनप्रतिनिधि 
अब आएं बिहार के परसौनी से बगहा के बीच गंडक पर पुल का निर्माण होता है तो इसकी कुल दूरी मात्र 9 किलोमीटर होगी या जटहां से बगहा गंडक पर निर्माण होने पर इसकी दूरी 9 किलोमीटर ही होगी। जबकि बगहा बेलवानियां का जो नया प्रस्ताव पारित किया गया है उस की कुल लंबाई 15 किलोमीटर होगी। जिसकी लागत का अनुमान कोई भी लगा सकता है और परसौनी/जटहां से बगहा पुल सड़क मार्ग की दूरी 9 किलोमीटर में कम लागत में निर्माण कार्य हो सकता है। इस योजना को पारित करने पर बिहार के कटे हुए भाग नदी दक्षिण के सैकड़ों गांव के लाखो लोगों के हित में बेहतर साबित होगा।
बिहार से भी जोरदार तरीके से उठाई जाती रही हैं मांग 
बिहार के पत्रकार सुमंत कुमार यादव ने बताया कि पूर्व प्रमुख स्वर्गीय यशवंत नारायण यादव को एक सप्ताह पूर्व श्रद्धांजलि देने परसौनी आए सांसद सुनील कुमार को सरपंच दिनेश्वर तिवारी, विवेक यदुवंशी,पैक्स अध्यक्ष कैलाश गुप्ता, वार्ड सदस्य रमेश राम,केशव पाठक, विशम्बर यादव,जिला परिषद सदस्य पिपरासी धनेश्वर यादव समेत सैकड़ों लोगों ने गंडक नदी में पुल निर्माण को लेकर मांग पत्र दिया। जिस पर सांसद ने सभी कागजात की मांग सांसद ने किया और लोक सभा में यह मुद्दा उठाने का आश्वासन भी दिया। पूर्व प्रमुख इसको लेकर हमेशा आवाज बुलंद करते रहे । पंचायत समिति से भी पारित कराकर पीएम को पत्राचार किया।सभी कागजात की मांग सांसद ने ‌विवेक कुमार से किया। और लोक सभा में यह मुद्दा उठाने की मांग का आश्वासन दिया हैं।
सीमावर्ती क्षेत्र की जनता का मांग है कि कुशीनगर के सांसद विधायक और बिहार के सांसद विधायक को मिल बैठकर जनहित को ध्यान में रखते हुए पुल निर्माण कराने की प्रयास किया जाएगा तो निश्चित रूप से यूपी बिहार के सीमावर्ती लोगों ने खुशहाली लौट आएगी और जनता भी जनप्रतिनिधियों के योगदान को कभी भूले भी नहीं।
   

FROM AROUND THE WEB