रामलीला कमेटी बनाम सैनिक संघर्ष जमीन सैनिक अस्पताल होता दिख रहा है

पूर्व सैनिक संयुक्त संगठन के साथ जटाशंकर तिवारी राजेश सेंगर आशुतोष मिश्रा श्याम बाबू यादव आदि लोग उपस्थित रहे 
 
रामलीला कमेटी बनाम सैनिक संघर्ष जमीन सैनिक अस्पताल होता दिख रहा है   

स्वतंत्र प्रभात 

उन्नाव में रक्षा मंत्रालय की भूमि पर सैनिक अस्पताल बनने से रामलीला कमेटी उन्नाव ने रोककर खुद की कब्जेदारी बताई। आज उन्नाव जिले के सभी पूर्व सैनिक संगठनों की हुई बैठक जिसमें चर्चा की गई जो रामलीला कमेटी उन्नाव द्वारा सैनिकों की भूमि लेने का कुचक्र चल रहा है। उसके पीछे इनकी व्यापारिक सोच है। जिसमें पूर्व दिनों में रक्षा मंत्रालय की जमीन पर फौजी अस्पताल बन रहा था उसे रामलीला कमेटी ने रोक दिया और सम्मानित सांसद साक्षी महाराज के साथ रक्षा मंत्री से मुलाकात कर फौजियों की पूरी जमीन अपने नाम एलॉट करने के लिए ज्ञापन देकर मांग की। इस मुद्दे पर आज उन्नाव जिले के सभी पूर्व सैनिक संगठनों की बैठक

संजय सिंह फौजी के आवास पर हुई जिसमे आगे की रूपरेखा के बारे में चर्चा की। जिसमें निश्चित हुआ की फौजी अस्पताल में जो भी विरोध कर रहा है उसका हर संभव विरोध कर अस्पताल बनवाने पर गंभीरता से सभी आगे बढ़ेंगे। सभी ने हिंदू समाज से अनुरोध किया कि रक्षा मंत्रालय की भूमि पर कब्जेदारी या अस्पताल ना बनने के बीच रामलीला कमेटी अवरोध ना पैदा करें। हम भी हिंदू हैं हम भी राम भक्त हैं। हमें अपने शहीद परिवारों के बारे में सैनिक परिवारों के बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए यदि हम रामलीला कमेटी कुछ दे ना पाएं तो कम से कम उनसे कुछ छीना सैनिक अस्पताल ना जाए। इस बैठक में प्रमुख रूप से संजय सिंह फौजी एके दीक्षित संस्थापक पूर्व सैनिक संयुक्त संगठन के साथ जटाशंकर तिवारी राजेश सेंगर आशुतोष मिश्रा श्याम बाबू यादव आदि लोग उपस्थित रहे।

   

FROM AROUND THE WEB