तहसील सदर में किसान से रिश्वत लेते हुए लेखपाल रंगे हाथों गिरफ्तार

तहसील सदर में किसान से रिश्वत लेते हुए लेखपाल रंगे हाथों गिरफ्तार

 
तहसील सदर में किसान से रिश्वत लेते हुए लेखपाल रंगे हाथों गिरफ्तार

तहसील सदर में किसान से रिश्वत लेते हुए लेखपाल रंगे हाथों गिरफ्तार

अरविंद त्रिपाठी

शाहजहांपुर। 

कुछ महीने पूर्व एक कानूनगो को  रिश्वत लेते हुए एंटी करप्शन टीम द्वारा सदर तहसील प्रांगण में गिरफ्तार किया गया था मंगलवार को फिर एंटी करप्शन टीम ने  सदर तहसील में तैनात लेखपाल को तहसील प्रांगण में ही रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है जो एक किसान के वारिसान प्रमाण पत्र में रिपोर्ट लगाने के बदले 5000 रुपए लेते गिरफ्तार किया गया है मिली जानकारी के अनुसार तहसील सदर में तैनात लेखपाल उत्कर्ष वर्मा दिलावरपुर बेहटी क्षेत्र में तैनात है। 

जिसने दिलावरपुर निवासी सुखलाल यादव से वारिसान प्रमाण पत्र बनवाने के नाम पर 5000 रुपए की मांग की थी जिसको लेकर सुख लाल यादव ने एंटी करप्शन टीम बरेली को एक शिकायत भेजी थी जिस पर एंटी करप्शन टीम बरेली मुरादाबाद ने संयुक्त रूप से सुखलाल द्वारा लेखपाल उत्कर्ष वर्मा को 5000 रुपए देते हुए रंगे हाथों तहसील प्रांगण में गिरफ्तार किया है एंटी करप्शन टीम द्वारा लेखपाल को कोतवाली ले जाया गया जहां नियमानुसार कार्रवाई करते हुए पुलिस की कस्टडी में दे दिया गया है सुखलाल यादव ने बताया कि उसके पिता की मृत्यु  हो गई थी तो उसने विरासत दर्ज कराने के लिए प्रार्थना पत्र दिया था जिस पर लेखपाल द्वारा सुविधा शुल्क मांगा गया। 

सुविधा शुल्क ना देने पर उसका नाम गलत अंकित कर दिया गया उसके बाद जब उसने वारिसान प्रमाण पत्र के लिए अप्लाई किया तो लेखपाल ने गलत नाम पता दर्शा कर वारिसान प्रमाण पत्र निरस्त कर दिया और जब उसने दोबारा वारिसान प्रमाण पत्र के लिए अप्लाई किया तो लेखपाल उत्कर्ष वर्मा द्वारा पांच हजार रुपए की मांग की गई तंग आकर सुखलाल यादव द्वारा एंटी करप्शन टीम को सूचना देनी पड़ी और लेखपाल को रंगे हाथों पकड़ाना पडा
 

   

FROM AROUND THE WEB